नश्तर !!

तेरा नाम सुनाया मज़े ले ले कर !
मुझे लोगों ने सताया मज़े ले ले कर !!

बातों ही बातों में तेरे नाम का नश्तर !
मुझे लोगों ने चुभाया मज़े ले ले कर !!

आशिक़ कहा मजनू कहा पागल भी कह दिया !
मुझे लोगों ने बुलाया मज़े ले ले कर !!

शायद जानते थे तैरना मुझको नहीं आता !
मुझे लोगों ने डुबाया मज़े ले ले कर !!

मालूम था उनको मैं फिर उठ न पाउँगा !
मुझे लोगों ने गिराया मज़े ले ले कर !!

वो तेरा शहर तेरी गली और तेरा घऱ !
मुझे लोगों ने दिखाया मज़े ले ले कर !!

 

One thought on “नश्तर !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s