हिसाब !!

कट चुकी कितनी, है बाक़ी रह गयी कितनी

गुज़रेगी ज़िन्दगी शायद इस हिसाब में !

 

मैंने तो शिकायत ना की शबे-हिज्र की

क्यों चुभ रहे हैं कांटे बिस्तरे-संजाब में !

 

जवाब मेरे पास हैं गुम हो गये सवाल

सवाल ढूंढ़ता हूँ मैं अब हर जवाब में !

 

मेरा अदम बिस्मिल हुआ ज़िन्दगी तलाशते

हर मोड़ पर मिली ये नक़ाब दर नक़ाब में !

 

खुद जल के देखता हूँ रक्सेशरर मैं

लगता है मेरी तिश्नगी है इल्तिहाब में !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s