आदत !!

तू मेरे पास होता, ये मेरी हालत नहीं होती,

यों पीकर बहकने की फिर ज़रुरत नहीं होती !

 

फ़िर जाम उठाने का वक़्त कहाँ मिलता ,

जब गेसुए पेचां से ही फुर्सत नहीं मिलती !

 

कटती है सुब्होशाम मयखाने में आज कल ,

जो तू होता यक़ीनन ये मेरी आदत नहीं होती !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s